img14

प्रशासन ने खतरे को भाप कर वाहनों का आवागमन किया बंद* *ओवर ब्रिज के टूटने की यह तीसरी घटना* परिधि समाचार इसरार सिद्दीकी ------------------------------------------------------- जरवल(बहराइच) बहराइच लखनऊ हाईवे पर जरवल रोड में रेलवे लाइन के ऊपर बने ओवर ब्रिज के सीमेंटेड पैनल आज बारिश के चलते टूट जाने से मिट्टी वा गिटृटी भरभरा कर गिर जाने से यातायात बाधित हो गया है।जरवल रोड पुलिस ने ओवर ब्रिज के दोनों तरफ खतरे को देखते हुए बैरी केटिंग लगाकरयातायात रोक दिया है। थाना जरवल रोड के ग्राम कुड़वा के निकट लखनऊ बहराइच हाईवे पर रेलवे लाइन के ऊपर पीएनसी कंपनी के द्वारा लगभग 60 करोड़ की लागत से लगभग 14 सो मीटर लंबे ओवर ब्रिज का निर्माण कराया गया था। दो वर्षों तक चले निर्माण के बाद 28 अगस्त सन 2018 को पीएनसी कंपनी के जिम्मेदार अधिकारियों के मौजूदगी में औपचारिक पूजन के बाद ओवर ब्रिज पर आवागमन चालू करा दिया गया था। इस ओवर ब्रिज के चालू होने से लखनऊ बहराइच रुपईडीहा नानपारा तथा नेपाल से आने जाने वाले वाहनों को रेलवे क्रॉसिंग से छुटकारा मिल गया था।लेकिन 4 महीने के बाद 30 दिसंबर 2018 को नवनिर्मित ओवर ब्रिज की सीमेंटेड पैनल टूट जाने की वजह से चार माह तक ओवर ब्रिज पर आवागमन बंद रहा। फिर दूसरी बार 18 दिसंबर 2019 को भी सीमेंटेड पैनल के टूटने परदो माह तक आवागमन बंद कर दिया गया था तब तत्कालीन उप जिलाधिकारी रामजीत मौर्या ने मौके पर पहुंचकर एनएचआई व पीएनसी कंपनी के अधिकारियों से ओवर ब्रिज की मरम्मत के बारे में बात करके अतिशीघ्र आवागमन बहाल करने के निर्देश दिए थे। लगभग दो माह बाद ओवर ब्रिज की मरम्मत पूरी होने के बाद वाहनों का आना जाना शुरु कर दिया गया था। तब से आज तक सुचारु रुप से यातायात चल रहा था। आज फिर वही सीमेंटेड पैनल टूटने से मिट्टी और गिट्टी भर भरा कर गिरने लगी।सूचना पर जरवल रोड थाना प्रभारी निरीक्षक हर्ष वर्धन सिंह पहुंचे और खतरे को भाप कर ओवर ब्रिज के दोनों ओर बैरी केटिंग लगाकर आवागमन को रोक दिया।और उच्च अधिकारियों को इस ओवर ब्रिज के टूटने के बारे में सूचित कर दिया है।