img14

ब्यूरो चीफ सुनील कुमार नवादा। जैसे-जैसे पंचायत चुनाव की तिथि नजदीक आती जा रही है, चुनावी सरगर्मी तेज होते जा रहा है । सभी संभावित प्रत्याशी अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए जीतोड़ मेहनत कर रहे हैं । हम बात नवादा जिले के नारदीगंज भाग -2 के जिला परिषद सीट की कर रहे हैं । जी हां ! मात्र 6 पंचायतों की यह आरक्षित सीट हमेशा से काफी सुर्खियों में रहा है । यह सीट पर पिछले चुनाव में एक बुजुर्ग महिला ऊगिया देवी विजयी हासिल की थी , हालांकि यहां कई दिग्गज प्रत्याशी हुए थे । इस बार भी यहां चुनाव काफी रोमांचक होगा क्योंकि यहां इस बार भी कई ऐसे चेहरे सामने आ रहे हैं जो इस क्षेत्र से नामांकन पर्चा भरने की तैयारी कर रहे हैं । ऐसे में ऊगिया देवी ने भी कमर कस लिया और अपने सिटिंग सीट से खुद प्रत्याशी न बनकर अपने बेटे रंजीत चौधरी को प्रत्याशी बनाने की घोषणा किया है । पिछले चुनाव में जीत मिलने के बाद रंजीत चौधरी अपने मां का प्रतिनिधि के तौर पर क्षेत्र के जनता के लिए कार्य करते आ रहे हैं । इसलिए इनका चेहरा प्रत्याशी के रूप में आने से समर्थकों ने खुशी जाहिर किया है । उसके समर्थक समाजसेवी शंकर चौधरी ने बताया कि ऊगिया देवी का विगत 5 वर्षों का कार्यकाल काफी सराहनीय रहा, चूंकि उनके पति रामवृक्ष चौधरी के निधन के बाद वे टूट सी गयी है । इसीलिए उन्होंने अपने पुत्र रंजीत चौधरी को प्रत्याशी बनाने का घोषणा किया है । उनके इस निर्णय को उनके समर्थकों ने स्वीकार किया है । खुद को प्रत्याशी घोषित होते हीं रंजीत चौधरी अपने क्षेत्र में जनसंपर्क तेज कर दिया है । वे मतदाताओं से जनसंपर्क करना शुरू कर दिए हैं । रंजीत अपने माता ऊगिया देवी के कार्यों और विश्वास के नाम पर लोगों से मिल रहे हैं । उनके समाजसेवी पिता रामवृक्ष चौधरी की आकस्मिक मौत हो जाने पर उन्हें सहानुभूति मत मिलने की भी संभावना है । हालांकि अभी प्रत्याशियों का नामांकन कार्य शुरू नहीं हुआ है । लेकिन जनसंपर्क कार्य चालू है ।