img14

छात्रों ने sdm व प्रधानाचार्य को बैठक के दौरान बनाया था बंधक। पुलिस ने जलती हुई लकड़ी से छात्रों पर किया लाठी चार्ज। 854 छात्रों ने मांगा न्याय तो मिली लाठियां, छात्रों की मांग दबने पर उग्र प्रदर्शन को हुए थे मजबूर। ललितपुर में बोर्ड परीक्षा की अंक सूची में नंबर दर्ज कराए जाने की मांग को लेकर छात्रों ने मोर्चा खोल दिया. आंदोलनरत छात्रों ने इस दौरान जमकर हंगामा किया. स्कूल के गेट में ताला लगाकर एसडीएम और प्रधानाचार्य को बंधक बना लिया. जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया है उत्तर प्रदेश के ललितपुर में बोर्ड परीक्षा की अंक सूची में नंबर दर्ज कराए जाने की मांग को लेकर छात्रों ने मोर्चा खोल दिया. आंदोलनरत छात्रों ने इस दौरान जमकर हंगामा किया. स्कूल के गेट पर ताला लगाकर छात्रों ने एसडीएम और प्रधानाचार्य को बंधक बना लिया, जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया. पुलिस की लाठीचार्ज में कई छात्रों को गहरी चोटें पहुंची हैं. इस हंगामे के बाद पुलिस ने दो दर्जन छात्रों को पुलिस ने हिरासत में लिया है. छात्रों पर पुलिसिया लाठीचार्ज के विरोध में राजनीति भी तेज हो गई है. सपा और कांग्रेस नेता खुलकर छात्रों के समर्थन में उतर आए हैं. गौरतलब है कि कोरोना के चलते हाईस्कूल और इंटर मीडिएट की परीक्षाएं सम्पन्न नहीं हो सकी हैं. छात्रों को प्री बोर्ड परीक्षा के आधार पर ही अगली कक्षा में प्रोन्नत किया गया है, लेकिन ललितपुर के राजकीय इंटर कालेज के बारहवीं कक्षा के 854 छात्रों के परीक्षा के परिणाम समय से प्रयागराज बोर्ड नहीं भेजे गए. इस कारण छात्रों की अंक सूची में नंबर दर्ज नहीं हो पाए हैं. विद्यालय के प्रधानाचार्य और शिक्षकों की लापरवाही के चलते छात्रों का किसी भी महाविद्यालय में प्रवेश नहीं हो पा रहा है. पिछले एक माह से अंक सूची में सुधार के लिए छात्र अधिकारियों को ज्ञापन देने के साथ प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्रों ने विद्यालय गेट पर ताला लगाकर बनाया बंधक इसी मामले को लेकर विद्यालय में 13 सितंबर की शाम एक बैठक का आयोजन किया गया था, लेकिन अधिकारियों और छात्रों के बीच बात नहीं बन पाई. इसी बीच एनएसयूआई और समाजवादी छात्र सभा के कार्यकर्ता भी पहुंच गए. इसके बाद छात्रों का मिजाज गर्मा गया. कुछ छात्रों ने विद्यालय के मुख्य गेट पर ताला जड़ कर अधिकारियों को बंधक बना लिया. मामला बिगड़ता देख मौके पर भारी पुलिस फोर्स पहुंच गई. किसी प्रकार पुलिस ने ताला तोड़कर विद्यालय में बंद एसडीएम, प्रधानाचार्य और अन्य अधिकारियों को बाहर निकाला. पुलिस ने भांजी लाठियां इस दौरान पुलिस और छात्रों में जमकर झड़प हुई. पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया. छात्रों को जलती हुई लकड़ी से पीटा गया. कई छात्र चोटिल हुए हैं. पुलिस द्वारा दो दर्जन छात्रों को हिरासत में लिए जाने की भी खबर है. इस घटना के बाद रोष देखा जा रहा है. सदर कोतवाली छावनी के रूप में तब्दील हो गई है. आग लगी लकड़ियों से छात्रों को पीटा जाना और कवरेज कर रहे सम्मानीय पत्रकारों को बुरा भला कहना बेहद निंदनीय है।