February 08 ,2023

PS24 News
मीडिया का नया अवतार
हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2015/65733 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2016/71238 (दैनिक)
RNI - UPHIN/2017/75145 (मासिक)
Download App

नेशनल

अब एयरपोर्ट दो घंटे पहले पहुंचना होगा ,विमान में अब नहीं मिलेगा खाना*

करीब दो महीने बाद चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के सूने रनवे पर फिर से विमान उड़ान भरते दिखेंगे। घरेलू विमानों की शुरुआत 25 मई से हो जाएगी। यात्रा से पहले याित्रयों के साथ एयरलाइन, एयरपोर्ट अथारिटी,सिक्यूरिटी एजेंसी, ग्राउंड हैंडलिंग एजेंसी व स्वास्थ्य एजेंसियों के लिए जरूरी गाइड लाइन जारी कर दी गई हैं। शुरुआत में एक तिहाई विमान सेवाएं ही शुरू हो सकेंगे।शारीरिक दूरी का पालन एयरपोर्ट पर करना होगा।अधिकतम किराया निर्धारित। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने यात्रा के लिए तय किराया और इससे जुड़ी शर्तें बताईं।घरेलू उड़ानों को शुरू करने में कुछ प्रक्रियाओं को बदलना पड़ सकता है, तभी हम अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के बारे में सोचेंगे।इस दौरान सभी यात्रियों को फेस मास्क और सैनिटाइजर बोतल साथ रखनी होगी।एयरलाइंस खाना नहीं देगी। पानी की बोतलें गैलरी एरिया या सीटों पर दी जाएंगी।एक सेल्फ डिक्लेरेशन या आरोग्य सेतु ऐप की मदद से यात्रियों के कोरोना के लक्षणों से मुक्त होने का पता लगाया जाएगा। आरोग्य सेतु ऐप पर लाल स्टेट्स वाले यात्रियों को यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी केवल एक चेक-इन बैग की अनुमति होगी। यात्रियों को प्रस्थान के समय से कम से कम 2 घंटे पहले रिपोर्ट करना होगा। किराये में एक तय सीमा में बदलाव होगा।यह आदेश जो आज जारी किया जा रहा है वह 24 अगस्त को 23:59 बजे तक लागू रहेगा।हमने एक न्यूनतम और अधिकतम किराया निर्धारित किया है। दिल्ली, मुंबई के मामले में 90-120 मिनट के बीच की यात्रा के लिए न्यूनतम किराया 3500 रुपये होगा, अधिकतम किराया 10,000 रुपये होगा। यह 24 अगस्त तक के लिए 3 महीने तक निर्धारित है।उड़ान मार्गों को कुल 7 मार्गों में वर्गीकृत किया गया है। 1) 40 मिनट से कम की फ्लाइट 2) 40-60 मिनट 3) 60-90 मिनट 4) 90-120 मिनट 5) 120-150 मिनट 6) 150-180 मिनट 7) 180-210 मिनट। देश के भीतर सभी मार्ग इन 7 मार्गों के भीतर आते हैं। 40% सीटें बैंड के मिडपॉइंट से कम किराये पर बेची जानी हैं। उदाहरण के लिए 3500 रुपये और 10000 रुपये का मिडपॉइंट 6700 रुपये है। इसलिए 40% सीटों को 6700 रुपये से कम कीमत पर बेचा जाना है। इस तरह हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि किराया नियंत्रण से बाहर न हो।
Read More

ग्रैग चैपल का कार्यकाल भारतीय क्रिकेट का सबसे बुरा समय: हरभजन सिंह


नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने टीम के पूर्व कोच ग्रैग चैपल  के कार्यकाल को भारतीय क्रिकेट का सबसे बुरा समय बताया। चैपल ने एक शो पर महेंद्र सिंह धोनी के बारे में कहा था कि उन्होंने धोनी को हर बार गेंद को सीमारेखा के बाहर मारने के बजाए शॉट को नीचे खेलने की सलाह दी थी।
इस आर्टिकल को पढ़कर हरभजन ने ट्वीट किया, उन्होंने धोनी को शॉट नीचे रखकर खेलने की सलाह इसलिए दी थी क्योंकि कोच हर किसी को मैदान के बाहर पहुंचा रहे थे। वह अलग खेल खेल रहे थे।चैपल ने धोनी को लेकर यह भी कहा था कि उन्होंने धोनी से ताकतवर बल्लेबाज अभी तक नहीं देखा।
चैपल 2005 से 2007 तक भारतीय टीम के कोच रहे थे। उनका कार्यकाल हालांकि विवादों से भरा रहा और कई सीनियर खिलाड़ियों के साथ उनके मतभेद रहे जिसमें तत्कालीन कप्तान और मौजूदा समय में बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली भी शामिल थे।
चैपल ने प्लेराइट फाउंडेशन के साथ फेसबुक पेज पर बात करते हुए कहा, मुझे याद है कि जब मैंने उनको पहली बार बल्लेबाजी करते देखा तो मैं हैरान रह गया था। उस समय वह भारत में सबसे चमकदार क्रिकेट खिलाड़ी थे। वह काफी अलग तरह से पोजीशन में आकर गेंद को मारते थे। मैंने जितने भी बल्लेबाज देखे हैं, उनमें से वो सबसे ताकतवर हैं।
उन्होंने कहा, मुझे उनकी श्रीलंका के खिलाफ खेली गई 183 रनों की पारी याद है। उनकी ताकतवर बल्लेबाजी उस समय बेहतरीन थी। अगला मैच पुणे में था और मैंने धोनी से कहा था कि आप हर गेंद को सीमारेखा के पार पहुंचाने के बजाए शॉट नीचे रखकर क्यों नहीं खेलते। अगले मैच में हम तकरीबन 260 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रहे थे और अच्छी स्थिति में थे। धोनी ने कुछ दिन पहले जो बल्लेबाजी की थी, वह उससे उलट बल्लेबाजी कर रहे थे।
चैपल ने कहा, हमें 20 रन चाहिए थे और धोनी ने 12वें खिलाड़ी आरपी सिंह के जरिए मुझसे छक्का मारने को पूछा था। मैंने कहा, तब तक नहीं जब तक लक्ष्य एक अंक में नहीं आ जाता। फिर जब हमें छह रन की जरूरत थी तो उन्होंने छक्का मारकर मैच समाप्त कर दिया।

Read More

ये फुटबॉलर बन चुके है अपने गृहनगर में नायक, डोपिंग मुद्दे में फंसे


एक वर्ष पहले डोपिंग मुद्दे में फंसे भारतीय फुटबॉलर राना घरामी अब कोरोना वायरस महामारी के दौरान जरूरतमंदों की मदद करके अपने गृहनगर में नायक बन गए हैं. ओडिशा एफसी के पूर्व डिफेंडर पश्चिम बंगाल के हुगली जिले से हैं.पिछले वर्ष अप्रैल में राष्ट्रीय डोपिंग निरोधक एजेंसी ने उन्हें अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया था. प्रतिबंधित दवा के सेवन का यह भारतीय सुपर लीग फुटबॉल में पहला मुद्दा था. छह महीने बाद उन्होंने वापसी की. उन्होंने कहा, यह भयावह अतीत था व मैं मानसिक तौर पर बहुत ज्यादा परेशान रहा. मैं अब उसे याद नहीं करना चाहता. मैने उस समय फोन उठाने भी बंद कर दिये थे. कोरोना महामारी के दौरान गरीबों, दिहाड़ी मजदूरों व रिक्शा चालकों की तकलीफों से दुखी घरामी ने अपने बचपन के क्लब गरलगाचा जूनियर स्पोर्टिंग से सम्पर्क किया व राहत वितरण शिविर लगाया. पहले चरण में उन्होंने 150 पैकेट बांटे. उन्होंने कहा, दूसरे चरण में मैने अपने दोस्तों से सम्पर्क किया व 100 लोगों की व मदद की.
उन्होंने परिवारों को टोकन बांटे व अपने पैकेट आकर लेने को बोला जिसमें चावल, दाल, ऑयल , सब्जियां , साबुन व सेनिटाइजर्स थे. वहीं, भारतीय सुपर लीग (आईएसएल) क्लब ओडिशा एफसी ने कोरोना वायरस महामारी संकट के विरूद्ध जारी लड़ाई में अपना सहयोग देते हुए ओडिशा के सीएम कोविड-19 राहत फंड में अपना सहयोग देने की घोषणा की है. जीएमएस के निर्माणकर्ता व मुख्य कार्यकारी ऑफिसर अनिल शर्मा ने कहा, पूरे दुनिया के लिए इस समय बहुत ही भयावह स्थिति है. ऐसे में सीएम नवीन पटनायक के नेतृत्व ने प्रदेश के लोगों की सुरक्षा के लिए शानदार कार्य किया है. उन्होंने कहा, ओडिशा को अपना घर मानते हुए ओडिशा एफसी को गर्व है. ओडिशा एफसी सीएम राहत फंड में इस उम्मीद के साथ दान कर रहा है कि इससे लोगों को मदद मिलेगी व उनका ज़िंदगी बेहतरीन है।

Read More

बेहद विवादों से भरा टीम इंडिया के इस पूर्व कोच का कार्यकाल रहा


टीम इंडिया के पूर्व कोच का कार्यकाल भारतीय क्रिकेट टीम के कोच के तौर पर बेहद विवादों से भरा रहा था। कोचिंग के दौरान ग्रेग चैपल पर टीम इंडिया में फूट डालने जैसे संगीन आरोप भी लग चुके हैं। हाल ही में ग्रेग चैपल ने सोशल मीडिया पर लाइव चेट के दौरान टीम इंडिया के पूर्व कैप्टन के बारे में बात करते हुए बोला है कि-मेरा मानना है कि मैंने अभी तक जितने भी बल्लेबाज देखें हैं, उनमें से धोनी सबसे ज्यादा ताकतवार हैं। इतना ही नहीं चैपल ने उस किस्से के बारे में भी बताया जब उन्होंने एमएस धोनी को छक्का मारने से इन्कार कर दिया था।
दरअसल, ये बात तब की है जब ग्रेग चैपल भारतीय क्रिकेट टीम के कोच हुआ करते थे। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि चैपल ने वर्ष 2005 से 2007 तक टीम इंडिया के कोच का पद संभाला था व उसी दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने अपना करियर प्रारम्भ किया था। उस वक्त चैपल का भारतीय क्रिकेट टीम के सीनियर खिलाड़ियों से बहुत ज्यादा मतभेद रहता था, जिसमें उस समय के कैप्टन सौरव गांगुली भी शामिल थे।चैपल ने इस सेशन के दौरान धोनी से जुड़े उस किस्से के बारे में बात करते हुए बताया कि, मुझे याद है कि जब मैंने धोनी को पहली बार मैदान पर बल्लेबाजी करते हुए देखा था उस वक्त मैं उन्हें देखकर दंग रह गया था। ये वो वक्त था जब धोनी टीम इंडिया के सबसे उभरते खिलाड़ी थे। धोनी बहुत ही अलग तरह से पोजिशन में आकर बॉल को मारते थे, मैंने अब तक जितने भी बल्लेबाज देखे हैं उनमें से धोनी सबसे शक्तिशाली हैं। ग्रेग चैपल ने आगे कहा, मुझे श्रीलंका के विरूद्ध धोनी की खेली गई 183 रनों की पारी भी अच्छे से याद है, जिसके बाद अगला मैच पुणे में होने वाला था, तब मैंने धोनी से पूछा था कि आप हर बॉल को बाउंड्री लाइन के बाहर पहुंचाने के बजाय शॉट को नीचे रखकर क्यों नहीं खेलते? अगले मैच में हमारी टीम लगभग 260 रनों के लक्ष्य को पूरा करने के पीछे थी, लेकिन धोनी ने कुछ दिन पहले जैसी बल्लेबाजी की थी, उस मैच में वो बिल्कुल उलट खेल रहे थे। हमें जीतने के लिए 20 रन बनाने थे व धोनी ने मुझसे छक्का मारने के लिए पूछा तो मैंने उन्हें इन्कार कर दिया व बोला कि तब तक छक्का नहीं मारना जब तक लक्ष्य इकाई में नहीं आ जाता। 
खैर धोनी एक बहुत ही शानदार बल्लेबाज हैं, इस बात पर किसी को कोई शक नहीं हैं, उन्होंने एक कैप्टन व खिलाड़ी दोनों ही रूपों में अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया, शायद तभी महेंद्र सिंह धोनी को करोड़ों लोग पसंद करते हैं, व उनके सन्यास के बारे में सोचने से ही उनके करोड़ों फैंस का दिल टूट रहा है।

 

 

Read More

'कृषि पर्यवेक्षक भवन मेघवाल मादा द्वारा बाटा गया लोगों को मास्क व सैनिटाइजर

परिधि समाचार यूरो दिलीप कुमार शर्मा की रिपोर्ट - कृषि पर्यवेक्षक भंवर मेघवाल-मादा की प्ररेणा से भामाशाह श्रीमान भरत सिंह जी पिता श्रीमान प्रकाश सिंह जी सदस्य राकेश जी, रमेश जी, कुशाल सिंह जी, गोपाल जी,प्रवीण जी ओर इन की पुरी टिम ने गांव मुंडारा,मोरखा, मादा में सेनिटेशन करवाया गया और सेनिटाइजर, थर्मल मशिन, गलप्स, मास्क एवं सैफ्टी के सभी प्रकार के समान आदि बांटे कृषि पर्यवेक्षक भंवर मेघवाल-मादा जी के द्वारा गरीब व असहाय लोगों में खाने पीने कि सामग्री भी वितरित करने का कार्य भी किया जाता है समय समय पर ओर भंवर मेघवाल-मादा कृषि पर्यवेक्षक ने अपनी ओर से जानकारी दी कि इस लोक डाउन के समय सभी लोग कोरोनावायरस से प्रभावित तो है ही साथ ही इस देश में रह रहे गरीब किसान को एक ओर समस्या का सामना करना पड़ रहा है जैसा कि आप सभी लोगो को पता होगा कि किसानों के खेतों में टिडी बहुत बहुत ज्यादा संख्या में आईं हैं इस से देश के किसानों की फसलों को भारी नुक़सान भी हो रहा है कृषि पर्यवेक्षक भंवर मेघवाल-मादा जी का राजस्थान सरकार से अनुरोध है कि गरीब किसान की ओर भी ध्यान रखा जाए भंवर मेघवाल जी ने अपने क्षैत्र में टैक्टर के द्वारा गरीब किसानो के खेतों में ओर साथ ही अपने क्षैत्र में किटनाशक दवाई का छिड़काव भी करवाया गया लोक डाउन के दौरान मुंडारा गांव में पुरी तरह कर्फ्यू लगा भी नजर आया कृषि पर्यवेक्षक भंवर मेघवाल-मादा ने देश की जनता को इस लोक डाउन में भारत सरकार द्वारा दिए गए दिशा निर्देश का पालन करने को लेकर भी कहा!
Read More

दिल्ली पुलिस थाना पटेल नगर के बीट ऑफिसर रमेश कुमार जी द्वारा बांटा गया लोगों को राशन

हेड लाइन- दिल्ली पुलिस थाना पटेल नगर के बीट ऑफिसर रमेश कुमार जी द्वारा बांटा गया लोगों को राशन परिधि समाचार ब्यूरो दिलीप कुमार शर्मा की रिपोर्ट - आप सभी लोग जानते हैं कि इस लोक डाउन में पुरे भारत वर्ष में जो प्रवासी मजदूर वर्ग के लोग सड़कों पर भारी संख्या में अपने गंतव्य स्थान पर जाने के लिए रवाना हुए हैं उन्हें देखते हुए थाना पटेल नगर के बिट ओफिसर रमेश कुमार जी, रोहित जी, उम्मेदसिंह जी, राजेन्द्र जी, राहुल जी, एवं हैड कांस्टेबल हिरा जी ने अपने क्षैत्र से पैदल यात्रा करने वालों मजदूरों को खाने पीने कि सामग्री बांटी ओर साथ ही उन लोगों को कोरोना महामारी को लेकर सावधान रहना को बताया जब से लोक डाउन लगा है तब से लेकर आज तक लगातार थाना पटेल नगर के बिट ओफिसर रमेश जी और उनकी पुरी टिम ने अपनी ओर से सेवा प्रदान करने में कोई कमी नहीं छोड़ी दिल्ली पुलिस सदेव आपके साथ!
Read More

भारत में एक लाख से ज्यादा हुए कोरोना के मरीज, तीन हजार से ज्यादा ने गंवाई जान

भारत में कोरोना मरीजों का आंकड़ा एक लाख को पार कर गया है. मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी अपडेट के मुताबिक, अब भारत में कुल कंफर्म मामलों की संख्या एक लाख 1 हजार 139 हो गई है, जबकि मरने वालों की तादाद 3 हजार 163 हो गई है. राहत की बात है कि अब तक 39 हजार 174 लोग ठीक हो चुके हैं.

अभी देश में 58 हजार 802 एक्टिव केस हैं. महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम सबसे ज्यादा है. यहां मरीजों की संख्या 35 हजार के पार पहुंच गई है. मरने वालों की तादाद भी 1249 हो गई है. वहीं, गुजरात में कोरोना पीड़ितों का आंकड़ा 11 हजार 745 तक जा पहुंचा है, जबकि मरने वालों की तादाद 694 है.

तमिलनाडु में भी तेजी से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है. अब तक यहां 11 हजार 760 केस की पुष्टि हुई है, जिसमें 81 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 10 हजार को पार कर गया है. मंत्रालय के अपडेट के मुताबिक, दिल्ली में कुल मरीजों की संख्या 10 हजार 54 है, जिसमें 168 लोगों की मौत हो चुकी है.                 

वहीं, राजस्थान में अब तक 5 हजार 507 कंफर्म केस सामने आ चुके हैं, जिसमें 138 लोगों की मौत हो चुकी. मध्य प्रदेश में अब तक 5 हजार 236 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें 252 लोगों की मौत हो चुकी है. उत्तर प्रदेश में भी कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है. अब यहां मरीजों की संख्या 4605 हो गई है, जिसमें 118 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

Read More

कृषि पर्यवेक्षक द्वारा बांटा गया मास्क और सैनिटाइजर

हेड लाइन- कृषि पर्यवेक्षक द्वारा बांटा गया मास्क और सैनिटाइजर परिधि समाचार नई दिल्ली - दिलीप कुमार शर्मा की रिपोर्ट - कृषिपर्यवेक्षक भंवर मेघवाल-मादा की प्रेरणा से भामाशाह श्रीमान भरतसिंह जी पिता श्रीमान प्रकाश सिंह जी राजपुरोहित मादा द्वारा एवं उनकी टीम के सदस्य राकेशजी,रमेशजी,कुशालसिंह जी,गोपाल जी,प्रवीण जी के सानिध्य में एक थर्मल टेम्प्रेचर मशीन,50हैंड सेनिटाइजर,100 मास्क मादा ग्राम स्तरीय कोरोना कमेटी को सहर्ष भेंट किये,सेक्टर प्रभारी डॉ श्रीमान ललितजी राठौड़, श्रीमान उम्मेद मलजी एवं समस्त कोरोना कण्ट्रोल टीम आपका आभार व्यक्त करते है!
Read More

इंद्रप्रस्थ संजीवनी एनजीओ द्वारा किया गया लोगों को लोगों को सम्मानित

हेड लाइन- इंद्रप्रस्थ संजीवनी एनजीओ द्वारा किया गया लोगों को लोगों को सम्मानित" परिधि समाचार नई दिल्ली- दिलीप कुमार शर्मा की रिपोर्ट - नमनस्कार, भारत की सम्मानित मुझे या मेरे कार्य भाव को दिया गया है उसके लिए एनजीओ का तह दिल से धन्यवाद करता हूं साथ ही आपसे अपील करता हूं क्षेत्र बुध नगर में जागरूकता अभियान चलाएं जिससे कोविद केस कम हो ओर लोग इस महामारी को गंभीरता से ले पशु पक्षी भी हे हमारे जीवन के अभीन अंग कृपा उनको भी मिले एन्न -
Read More

दिल्ली पुलिस थाना पटेल नगर के बीट ऑफिसर रमेश कुमार जी द्वारा गरीब व असहाय लोगों को खाने का पैकेट वितरित करते हुए'

परिधि समाचार नई दिल्ली- दिलीप कुमार शर्मा की रिपोर्ट- लोक डाउन 3 का आखिरी दिन जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि इस लोक डाउन में बहुत से नौजवान एवं अन्य जनप्रतिनिधि एवं अन्य संगठनों ने भी अपने पुरे तन मन धन से सेवा करने में कोई भी कमी नहीं छोड़ी लेकिन आप सभी को में बताना चाहुंगा कि हमारे दिल्ली पुलिस थाना पटेल नगर के बिट ओफिसर रमेश कुमार जी/ उमेद सिंह जी/हिरा जी/ओर सभी लोगों ने अपनी जान की परवाह किए बिना जब से लोक डाउन लगा है तब से लेकर आज लोक डाउन 3 खत्म होने तक थाना पटेल नगर के बिट ओफिसर रमेश कुमार मीणा जी ने अपने क्षैत्र में गरीब व असहाय लोगों को खाना व सुखा राशन वितरित करने में ओर सेफ्टी के सभी तरह के सामान वितरित करने में कोई भी कमी नहीं छोड़ी रोजाना सुबह-शाम रमेश कुमार मीणा जी अपनी टीम के साथ अपने क्षैत्र में लोगों को कोरोना महामारी को लेकर सावधान रहने को समझाने में भी कोई कमी नहीं छोड़ते और साथ ही साथ अपने क्षैत्र में बिना वजह से घुम रहे लोगों को सावधान रहने को भी कहते हैं बिट ओफिसर रमेश कुमार मीणा जी का अपने क्षैत्र की जनता ओर साथ ही देश वासियों को सन्देश है कि कृपया अपने घर में ही रहें और सुरक्षित रहे बड़े बुजुर्गो व छौटे बच्चों का ख़ास ख्याल रखें धन्यवाद जय हिन्द जय भारत!
Read More